सर्वनाम - सम्पूर्ण नोट्स ( हिन्दी व्याकरण )

संज्ञा की भाँति सर्वनाम भी एक विकारी शब्द है। यहाँ विकार का अर्थ है- परिवर्तन या बदलाव। सर्वनाम में यह परिवर्तन या बदलाव वचन तथा कारक के कारण होता हैं। परन्तु ध्यान रहे कि लिंग के कारण सर्वनाम का रुपान्तरण नहीं होता हैं।

सर्वनाम - सम्पूर्ण नोट्स ( हिन्दी व्याकरण )

सर्वनाम दो शब्दों सर्व और नाम से मिलकर बना है यहाँ सर्व का अर्थ है- सब तथा नाम का अर्थ है- संज्ञा अर्थात् सब संज्ञाओं के स्थान पर प्रयोग होने वाले शब्द को सर्वनाम कहते हैं तात्पर्य यह है कि- संज्ञा के स्थान पर जिस शब्द का प्रयोग किया जाता है वही सर्वनाम हैं।

       संज्ञा की भाँति सर्वनाम भी एक विकारी शब्द है। यहाँ विकार का अर्थ है- परिवर्तन या बदलाव। सर्वनाम में यह परिवर्तन या बदलाव वचन तथा कारक के कारण होता हैं। परन्तु ध्यान रहे कि लिंग के कारण सर्वनाम का रुपान्तरण नहीं होता हैं।

हिन्दी में सर्वनामों की संख्या 11 होती हैं।

        जैसे- मै, तू, आप, यह, वह, कोई, कुछ, जो, सो, कौन, क्या

सर्वनाम के भेद

हिन्दी में सर्वनाम के 6 भेद हैं।

1.   पुरुषवाचक सर्वनाम

2.  निजवाचक सर्वनाम

3.  निश्चयवाचक सर्वनाम

4.  अनिश्चयवाचक सर्वनाम

5.  संबन्धवाचक सर्वनाम

6.  प्रश्नवाचक सर्वनाम

1.   पुरुषवाचक सर्वनाम-

पुरुषों (स्त्री & पुरुष दोनों) के स्थान पर प्रयोग होने वाले शब्द को पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

पुरुषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं।

2.   निजवाचक सर्वनाम-

जब आप का प्रयोग स्वयं के अर्थ में होता हैं तब वहाँ निजवाचक सर्वनाम होता हैं। निजवाचक सर्वनाम का प्रयोग सम्मान सूचक शब्द में किया जाता है। जब इसका प्रयोग सम्मान शब्द सूचक शब्द में किया जाता हैं तब इसकी क्रिया बहुवचन में होती हैं।

जैसे-

a.   यह काम आप ही कर सकते हैं।

b.  मै अपने आप चला जाऊँगा।

3.  निश्चयवाचक सर्वनाम-

जिस सर्वनाम शब्द से किसी वस्तु अथवा व्यक्ति की निश्चितता का बोध हो उसे निश्चिय वाचक सर्वनाम कहते हैं। निश्चयवाचक सर्वनाम के अन्तर्गत यह और वह आता है। यह का प्रयोग पास की वस्तु की लिए तथा वह का प्रयोग दूर की वस्तु के लिए किया जाता हैं।

जैसे-   यह मेरा घर है। (पास)

वह तुम्हारी साइकिल है। (दूर)

4.  अनिश्चयवाचक सर्वनाम-

जिस सर्वनाम शब्द से किसी वस्तु/व्यक्ति की अनिश्चितता का बोध हो वहाँ अनिश्चिय वाचक सर्वनाम होता हैं।

अनिश्चय वाचक सर्वनाम के अन्तर्गत कोई और कुछ आता है। कोई का प्रयोग प्रायः व्यक्ति के सन्दर्भ में तथा कुछ का प्रयोग प्रायः वस्तु के सन्दर्भ में किया जाता हैं।

जैसे-     a.   घर में कोई हैं।

            b.  पानी में कुछ पड़ा हैं।

Question- दही में कौन पड़ा हैं। (अशुद्ध)

           दही में कुछ पड़ा हैं। (शुद्ध)

5.   संबन्धवाचक सर्वनाम-

जिस सर्वनाम शब्द से दो वस्तुओ या व्यक्तियों के बीच सम्बन्ध का बोध हो उसे सम्बन्ध वाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे-

a.   जो पढ़ेगा वो पास होगा।

b.  जैसा करोगे वैसा भरोगे।

6.  प्रश्नवाचक सर्वनाम-

जिस सर्वनाम शब्द से किसी प्रकार के प्रश्न किये जाने का बोध हो उसे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे-

a.   तुम कौन हो

b.  वर्तमान में उ. प्र. के राज्यपाल कौन हैं

c.   क्या तुम आगरा जा रहे हो